प्यार करना एक बहुत खूबसूरत अहसास होता है। इससे दो लोगों के बीच सम्बन्ध और भी अधिक मजबूत होते हैं। एकअतरंग रिश्ता दोनों के बीच होने वाले इन सम्बन्धों को और गहरा और गंभीर रंग दे देता है। यदि आप इस रिश्ते को पहली बार बना रहे हैं तब आप इसके बाद अपने शरीर में होने वाले परिवर्तनों और भावनाओं के उतार चढ़ाव के लिए तैयार हो जाइए।

“हम पिछले तीन महीनों से डेटिंग कर रहे हैं, अब हमने अपने रिश्ते को एक दूसरे लेवल पर ले जाने का निर्णय लिया था। वह एक शनिवार की रात थी। और मैंने अपने बॉयफ्रेंड को एक प्यारा सा सरप्राइज़ देने का मन बना लिया। इसके लिए मैंने उसके कमरे के हर कोने को खूबसूरत केंडल और गुलाब के फूलों से सजा दिया था। यह सजावट देखकर वह सचमुच बहुत खुश हुआ। कैन्डल लाइट डिनर के बाद हम दोनों ने एक साथ बहुत अच्छा समय बिताया। हम दोनों ही उस समय एक अलग ही एहसास और आनंद का अनुभव कर रहे थे। लेकिन उस समय मेरे दिमाग में कौमार्य को खोने के एहसास को लेकर सवालों के जैसे तूफान चल रहे थे। – मल्लिका, 19 वर्षीया ।

यह न केवल मालिका की कहानी है बल्कि लाखों औरतें इसे अपनी कहानी के रूप में देख सकती हैं और इस स्थिति में ऐसा ही सोच सकती हैं। इसमें यह स्पष्ट रूप से दिखाई देता है कि आप एक ओर तो इस संबंध में उत्साही दिखाई देती हैं और साथ ही उस समय थोड़ी डरी और चिंतित भी होती हैं। हो सकता है इससे पहले आपने इन्टरनेट पर इसके बारे में बहुत कुछ देखने की कोशिश भी की होगी या फिर अपने ‘अनुभवी’ सहेलियों से सलाह भी जरूर ली होगी। दरअसल यह तो मानव प्रकृति है कि जब भी किसी की जिंदगी में थोड़ा बड़ा होता है या फिर कुछ पहली बार होता है तब ऐसी स्थिति में थोड़ा घबरा जाना बिल्कुल स्वाभाविक है।

एक बार जब सब कुछ हो जाता है और जब आने वाले महीनों में आपके पीरियड नहीं होते हैं तब आप निश्चित ही परेशान हो सकती हैं। आइये अपने साथियों से इस बारे में और जानते हैं :

“यह मेरा उसके साथ पहली बार था और उसके बाद आने वाली तारीखों में मेरी माहवारी नहीं हुई थी। तब मैंने छानबीन करके जानने की कोशिश की और इसके बाद मेरे दिमाग में परेशानियाँ शुरू हो गईं थीं” 21 वर्षीया पूर्वी ने कहा ।

“ मुझे पहली बार सेक्स करने के बाद बड़ा अजीब सा अनुभव हो रहा था। अगले दो महीने तक मेरी माहवारी नहीं हुई थी इसलिए मुझे ऐसा लगा, कि मैं शायद प्रेग्नेंट हो गई हूँ। 23 वर्षीया चिथ्रा ने कहा।

माहवारी का नियत समय पर न होना, प्रेग्नेंसी की पहली निशानी होती है। इसके बाद मुझे ऐसा लगा कि मेरा वज़नभी बढ़ रहा है जिससे मैं बहुत डर गई। मैं इतना घबरा गई थी, कि मैं गाइनाकोलोजिस्ट के पास चली गई। “20 वर्षीया सिमरन ने कहा।

वास्तव में हर समय तनाव में रहने से कभी-कभी घबराहट की स्थिति पैदा हो जाती है। हमारी इस बात से तो अधिकतर महिलाएं सहमत ही होंगी। अधिकतर महिलाएं माहवारी के आने को लेकर इतना चिंतित हो जाती हैं कि केवल इसी कारण से माहवारी को आने में देर हो जाती है। सामान्य रूप से एक बार कौमार्य भंग हो जाने के बाद शरीर में विभिन्न प्रकार के परिवर्तन होने लगते हैं।

वास्तव में हर समय तनाव में रहने से कभी-कभी घबराहट की स्थिति पैदा हो जाती है। हमारी इस बात से तो अधिकतर महिलाएं सहमत ही होंगी। अधिकतर महिलाएं माहवारी के आने को लेकर इतना चिंतित हो जाती हैं कि केवल इसी कारण से माहवारी को आने में देर हो जाती है। सामान्य रूप से एक बार कौमार्य भंग हो जाने के बाद शरीर में विभिन्न प्रकार के परिवर्तन होने लगते हैं।

क्या आप जानती हैं कि आपकी रात की नींद का भी बहुत सारी बातों पर प्रभाव पड़ता है। यदि आप भरपूर नींद नहीं लेती हैं तब इससे भी आपके पीरियड के आने में देरी हो सकती है। इसलिए बेहतर होगा कि इस तनावपूर्ण स्थिति से बचने के लिए हमेशा कॉन्डोम या अन्य किसी सुरक्षा के उपाय का प्रयोग किया जाये।

जब आप अपने साथी के साथ मौज-मस्ती करने का मन बनाएँ तब इस बात का ध्यान रखें कि आप दोनों पूरी तरह से सावधानी बरतें । सेक्स वह भावना है जिसका दोनों साथियों द्वारा पूरी तरह से आनंद लिया जाना चाहिए न कि वह जिससे बाद में दोनों को पछताना पड़े।

Leave a Reply

×

Cart